news21cg

ODIs : इंग्लैंड के ऑलराउंडर बेन स्टोक्स (Ben Stokes) के वनडे क्रिकेट से अचानक संन्यास ने नई बहस छेड़ दी है. इससे जहां एक ओर क्रिकेट के शेड्यूल को लेकर चर्चा गरम है. वहीं, आईपीएल और बिग बैश जैसी लीग को भी  इसके लिए जिम्मेदार ठहराया जा रहा है. इस बीच, ऑस्ट्रेलिया के उस्मान ख्वाजा (Usman Khawaja) ने कहा कि वनडे क्रिकेट धीमी मौत मर रहा है. इसलिए इस पर कोई आश्चर्य नहीं हो रहा है कि बेन स्टोक्स ने यह प्रारूप छोड़ दिया है.

इंग्लैंड के टेस्ट कप्तान के रूप में पदभार संभालने वाले बेन स्टोक्स ने कहा कि अधिकारी खिलाड़ियों के साथ ‘कार’ की तरह व्यवहार नहीं कर सकते हैं. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तीनों प्रारूपों टी20, टेस्ट और वनडे क्रिकेट में वास्तविक रूप से प्रतिस्पर्धा करने के लिए बहुत अधिक क्रिकेट खेला जा रहा है.

वनडे क्रिकेट पड़ रहा सुस्त
ओपनर उस्मान ख्वाजा (Usman Khawaja) ने क्रिकइंफो से कहा कि यह साफ है कि अगर इंटरनेशनल कैलेंडर से कुछ हटाया जाएगा तो बेशक 50 ओवर के मैच होंगे. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के शुक्रवार को कैलेंडर जारी करने के बाद उस्मान ने कहा, ‘मुझे लगता है कि शायद अभी तीनों प्रारुपो में से एकदिवसीय क्रिकेट तीसरे स्थान पर है. मुझे लगता है कि वनडे क्रिकेट धीरे-धीरे अपने अंत की ओर (ODI cricket dying a slow death) बढ़ रहा है. हालांकि, अभी भी वर्ल्ड कप है जिसे देखना मजेदार होगा.’

तीनों फॉर्मेट का खिलाड़ी बनना आसान नहीं
ख्वाजा ने कहा कि इस युग में तीनों फॉर्मेट का खिलाड़ी बनना आसान नहीं है. यह असंभव ही नही बल्कि बहुत कठिन है. आपको इतनी यात्रा करनी होती है और वास्तव में आप घर पर नहीं होते है. वैसे आपको क्रिकेट में अपना पसंदीदा फॉर्मेट चुनने का मौका मिलता है. लेकिन कभी-कभी किसी एक को चुनना बहुत कठिन हो जाता है. हालांकि, ख्वाजा टेस्ट क्रिकेट के भविष्य पर बेहतरीन दृष्टिकोण रखते है. अगले साल होने वाले टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में जगह बनाने के लिए ऑस्ट्रेलिया की टीम का सामना वेस्टइंडीज और दक्षिण अफ्रीका से होगा.

ख्वाजा को टेस्ट क्रिकेट पसंद
ख्वाजा ने कहा, ‘जिन लोगों से भी मैं बात करता हूं उनमें से ज्यादातर टेस्ट क्रिकेट से प्यार करते हैं. यह मेरा भी पसंदीदा फॉर्मेट है. जहां तक मेरा ख्याल है टेस्ट क्रिकेट अभी भी मजबूत स्थिति में है. इसीलिए वास्तव में इसे दूर जाते हुए नही देखा जा सकता. टेस्ट और टी20 क्रिकेट दोनों को काफी आसानी से बैलेंस किया जा सकता.’

%d bloggers like this: