news21cg

Nashik Municipal Corporation

संपत्ति टैक्स (Property Tax) और जल टैक्स (Water Tax) बकाया वसूली को लेकर नाशिक महानगरपालिका प्रशासन (Nashik Municipal Corporation Administration) ने बड़ा निर्णय लिया है। इसके तहत 1 अगस्त से वसूली के लिए विशेष अभियान (Special Mission) शुरू किया जाएगा। 1 लाख से अधिक संपत्ति टैक्स बकाया होने वाले 3 हजार 245 बड़े बकाएदारों को अंतिम नोटिस (Notice) दी गई है। अब शेष रकम वसूली के लिए बकाएदारों के घरों के सामने ढोल बजाकर टैक्स का भुगतान करने की अपील की जाएगी। फिर भी बकाया टैक्स का भुगतान न करने पर घर से संसार उपयोगी सामग्री जब्त कर ली जाएगी।

नाशिक महानगरपालिका की आय में जीएसटी अनुदान के बाद संपत्ति टैक्स अहम है। संपत्ति टैक्स वसूल करते समय विगत दो वर्षों से कई बाधाएं आ रही हैं। 4.75 लाख संपत्ति धारकों में से लगभग 60 प्रतिशत संपत्ति धारक नियमित टैक्स अदा करते हैं। 10 प्रतिशत संपत्ति धारक इस प्रकार के हैं, जो अनेक वर्षों से टैक्स अदा करने में टाल-मटोल कर रहे हैं। संपत्ति टैक्स वसूली करने के लिए महानगरपालिका द्वारा विविध योजनाओं पर अमल किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें

लाखों रुपए का टैक्स बकाया

आगामी संपत्ति टैक्स का भुगतान करने पर अप्रैल माह में 5 प्रतिशत, मई माह में 3 और जून माह में 2 प्रतिशत की छूट दी जाती है। इस बार भी योजना पर अमल किया गया। इसके तहत महानगरपालिका को 65 करोड़ रुपए की आय हुई, लेकिन स्थायी संपत्ति धारकों के पास लाखों रुपए का टैक्स बकाया है। उनके पास से प्रतिसाद नहीं मिल रहा है। इसलिए विभिन्न विभागों ने इस प्रकार के 1 लाख से अधिक टैक्स बकाया रखने वाले संपत्ति धारकों के खिलाफ अपना मोर्चा खोलने का निर्णय लिया है।

विभिन्न विभागों में बकाएदारों की सूची

नाशिक पूर्व विभाग में 1015, नाशिक पश्चिम विभाग में 646, नाशिकरोड विभाग में 405, सातपुर विभाग में 198, सिडको विभाग में 316, पंचवटी विभाग में 639 बकाएदार शामिल हैं। यह जानकारी नाशिक महानगरपालिका उपायुक्त अर्चना तांबे ने दी है।

%d bloggers like this: