news21cg

Ms Marvel  : मार्वल सिनेमैटिक यूनिवर्स ने ‘ब्लैक पैंथर’ में दुनिया को एक ब्लैक सुपरहीरो देने के बाद, हाल ही में रिलीज हुई वेब सीरीज ‘मिस मार्वल’ (Ms Marvel) में एक मुस्लिम सुपरहीरो को पेश करके एक और स्टीरियोटाइप तोड़ दिया. सीरीज में जहां इमान वेल्लानी लीड रोल निभा रही हैं, वहीं, पाकिस्तानी एक्ट्रेस महविश हयात इमान की परनानी की किरदार निभाया है. सीरीज के पिछले एपिसोड में महविश के किरदार का खुलासा हुआ. इसमें पाकिस्तानी एक्टर फवाद खान भी अहम किरदार में दिखाई दिए.

अब, डिज्नी सेंट्रल को दिए एक इंटरव्यू में महविश हयात (Mehwish Hayat) ने एक वैश्विक मंच पर मुस्लिम प्रतिनिधित्व के बारे में खुलकर बात की. इसके साथ ही उन्होंने इस हॉलीवुड प्रोजेक्ट पर काम करने के अपने अनुभव को शेयर किया. हयात के लिए, यह एक बेहतरीन अनुभव था. उन्हें विश्वास नहीं हो रहा थी कि वह सच में मार्वल के साथ काम कर रही हैं.

महविश हयात ने पाकिस्तानी मनोरंजन उद्योग और हॉलीवुड के बीच तुलना के बारे में पूछे जाने पर कहा कि कैसे दोनों एक-दूसरे से बेहद अलग हैं. उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी फिल्म इंडस्ट्री अभी भी अपनी शुरुआती अवस्था में है और इसे विकास के लिए एक लंबा रास्ता तय करना है. वहीं हॉलीवुड एक वैश्विक मंच है. दोनों की कोई तुलना नहीं है.

Mehawish Hayat Post

महविश हयात ने दुनिया भर में मुस्लिम किरदारों के रूढ़िवादी प्रतिनिधित्व के बारे बात की. हयात ने निराशा जताई कि अक्सर बड़े पर्दे पर इस्लामी समुदाय का प्रतिनिधित्व बहुत कम होता है. उन्होंने इस बात पर रोशनी डाली कि कैसे मुस्लिम किरदारों को हमेशा विलेन के रूप में दिखाया जाता है. महिलाओं के संदर्भ में तो वो इसे और बेकार बताती हैं. उनका कहना है कि मुस्लिम महिलाओं के किरदार को हमेशा दबा हुआ दिखाया जाता है.

मुस्लिम समुदाय के लिए सकारात्मक रोशनीः महविश

महविश हयात ने कहा कि लेकिन ‘मिस मार्वल’ खुले तौर पर समुदाय को सकारात्मक रोशनी प्रदर्शित करते हुए दिखाया गया है. उनके लिए मार्वल प्रोजेक्ट में बिस्मिल्लाह माशा अल्लाह जैसे शब्दों का इस्तेमाल सही दिशा में एक बड़ा कदम है. हयात ने कहा, “मस्जिद में दृश्य, बिस्मिल्लाह और माशा अल्लाह जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया जा रहा है. ऐसा होने की कल्पना किसने की होगी ?”

मुसलमानों के लिए सही दिशा मेंः महविश

महविश हयात ने आगे कहा, “यह सही दिशा में जा रहा है. नकिया एक हिजाबी हैं और उन्हें इस पर बहुत गर्व है. कल्पना कीजिए कि यह कितनी लड़कियों का प्रतिनिधित्व कर रही है और साथ ही शो में वह 2 अरब मुसलमानों का प्रतिनिधित्व करती है.”

%d bloggers like this: