news21cg
cryptocurrency:-

क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने वाले लोगों के लिए अच्छे दिन आने का नाम नहीं ले रहा है। रविवार को कई बड़ी क्रिप्टोकरेंसी लाल निशान पर कारोबार कर रही हैं। बिटकॉइन में भी पिछले कुछ दिनों से लगातार गिरावट देखी जा रही है।

रविवार को बिटकॉइन 28,000 डॉलर के नीचे फिसल गया। रविवार दोपहर दो बजे बिटकॉइन की कीमत बिटकॉइन 27595.70 डॉलर चल रही थी। इस करेंसी में बीते 24 घंटे में 4 फीसद का गिरावट दर्ज किया गया है। वहीं, रविवार की बात करें तो इसमें 2.68 फीसद की गिरावट देखने को मिली है।

आपको बता दें कि रविवार को ग्लोबल क्रिप्टो मार्केट कैप 1.13 लाख करोड़ डॉलर पर है, जो पिछले दिन के मुकाबले 5.09 प्रतिशत कम है। कुल क्रिप्टो मार्केट वैल्यूम पिछले 24 घंटे में 71.55 अरब डॉलर का रहा, जो 6.14 फीसद बढ़ा है।

अन्य क्रिप्टो की बात करें तो रविवार की सुबह डॉगक्वॉइन 12.8 फीसद गिरकर 0.066169 डॉलर पर आ गया। वहीं, शीबा इनु 13.4 फीसद गिरकर 0.00000886 डॉलर पर आ गया। कार्डानो में 10.9 फीसद की भारी गिरावट देखने को मिली है। इस गिरावट के साथ कार्डानो की कीमत 0.522211 डॉलर पर पहुंच गई।

वहीं, सोलाना 13.6 फीसद गिरकर 32.43 डॉलर पर कारोबार कर रहा था। वहीं, इसके अलावा Avalanche, Polkadot, Polygon समेत अन्य क्रिप्टो में रविवार को गिरावट दर्ज की गई है।

  • क्‍या हैं Cryptocurrencies?

cryptocurrency क्रिप्‍टोकरेंसी वास्‍तव में ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी पर आधारित डिसेंट्रलाइज्‍ड डिजिटल मनी है और इसे क्रिप्‍टोग्राफी (Cryptography) से सुरक्षित किया गया है। अब आप जानना चाहेंगे कि यह Blockchain क्‍या है?

आसान शब्‍दों में कहें तो क्रिप्‍टोकरेंसी के मामले में ब्‍लॉकचेन एक डिजिटल लेजर (बही-खाता) है, जिसके इस्‍तेमाल का अधिकार सिर्फ यूजर्स को होता है। यह लेजर कई तरह के एसेट्स के लेनदेन को रिकॉर्ड रखता है, जिसमें पैसे, घर आदि जैसे एसेट्स शामिल होते हैं।

ब्‍लॉकचेन का अधिकार यूजर्स के साथ साझा किया जाता है और खास बात यह है कि यहां उपलब्‍ध जानकारियां पूरी तरह पारदर्शी, तात्‍क‍ालिक और इतनी सुरक्षित होती हैं कि इसे यूजर्स क्‍या एडमिनिस्‍ट्रेटर भी इनमें किसी तरह का बदलाव नहीं कर सकते।

अब सेंट्रलाइज्‍ड और डिसेंट्रलाइज्‍ड मनी का फर्क भी समझ लेते हैं। सेंट्रलाइज्‍ड मनी हमारे लिए रुपया है, जिसे भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा गवर्न किया जाता है। डिसेंट्रलाइज्‍ड मनी को गवर्न करने वाला कोई नहीं होता और इसके मूल्‍य में गिरावट या तेजी को सुपरवाइज करने वाली कोई अथॉरिटी नहीं होती।

cryptocurrency, news, news in hindi

%d bloggers like this: