news21cg

भारतीय टीम के पूर्व लेग स्पिनर राहुल शर्मा (Rahul Sharma) ने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कह दिया है. कई खिलाड़ियों की तरह राहुल भी आईपीएल (IPL) में बेहतरीन प्रदर्शन कर भारतीय टीम तक पहुंचने में कामयाब हुए थे. हालांकि आईपीएल में ही रेव पार्टी में संलिप्त पाए जानें के बाद उनका करियर अधर में लटक गया. लंबे समय तक इंतजार करने के बावजूद जब उन्हें भारतीय टीम में दुबारा मौका नहीं मिला तो उन्होंने अंततः रिटायरमेंट का फैसला लिया है. पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट डालते हुए अपने क्रिकेट करियर से संन्यास का ऐलान किया है.

बता दें एक समय था जब राहुल को भारतीय टीम में अनिल कुंबले (Anil Kumble) का उत्तराधिकारी माना जाता था. साल 2011 में उन्होंने आईपीएल टूर्नामेंट के दौरान खेल जगत में ‘क्रिकेट के भगवान’ के रूप में मशहूर सचिन तेंदुलकर को आउट करते हुए सबको स्तब्ध कर दिया था. इसके बाद वो रातो रात आईपीएल स्टार बन गए थे.

भारतीय क्रिकेटर ने सोशल मीडिया पर एक लंबा चौड़ा पोस्ट लिखते हुए बताया है, ‘मैं अपने करियर के अहम मौकों पर चोट से परेशान रहा. इस वजह से मुझे काफी निराशा हाथ लगी. मैंने राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में अपने पुनर्वसन पर जमकर मेहनत की, लेकिन मौके आसानी से कभी नहीं मिले. तेंदुलकर को याद आया कि मैं दिल से प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलना चाहता था और मुझे रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज में खेलने का यह मौका दिया. मैंने इस लीग के साथ अपनी दूसरी पारी शुरू करने का फैसला किया है.’

बता दें साल 2012 उनके लिए बेहद बुरा साल रहा. इसी साल वह अफ्रीकी प्लेयर वायने पार्नेल के साथ रेव पार्टी में पकड़े गए थे. तब पार्नेल ने कहा था कि वह नशा नहीं करते और गलत समय पर गलत स्थान पर समय बिता रहे थे. मुंबई पुलिस ने इन दोनों खिलाड़ियों को वीकेंड पर मुंबई स्थित ओकवुड प्रीमियर होटल में छापा मारते हुए गिरफ्तार किया था.

राहुल शर्मा ने देश के लिए कुल छह इंटरनेशनल मुकाबले खेले. इस दौरान उनको नौ सफलता हाथ लगी. शर्मा ने देश के लिए वनडे में चार मैच खेलते हुए चार पारियों में छह और टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में दो मैच खेलते हुए दो पारियों में तीन सफलता प्राप्त की. इसके अलावा उन्होंने आईपीएल में कुल 44 मैच खेले. इस दौरान उनको 40 विकेट प्राप्त हुए.

%d bloggers like this: