news21cg

श्रीलंकाई क्रिकेट टीम के 50 वर्षीय पूर्व दिग्गज स्पिनर मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) के बारे में कौन नहीं जानता है. इंटरनेशनल क्रिकेट में उनके नाम कई बड़े रिकॉर्ड दर्ज हैं, जिन्हें अन्य गेंदबाजों द्वारा तोड़ पाना काफी मुश्किल काम है. मुरलीधरन ने आज ही के दिन 22 जुलाई साल 2010 में भारत के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में 800 विकेट लेते हुए इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा  कहा था. दरअसल भारत और श्रीलंका के बीच साल 2010 में टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला गाले में 18 जुलाई से 22 जुलाई के बीच खेला गया. इस मुकाबले में श्रीलंकाई टीम को 10 विकेट से जीत मिली.

मैच के दौरान दिग्गज स्पिनर मुरलीधरन अपने चरम पर नजर आए. उन्होंने टीम के लिए पहली पारी में 17 ओवर की गेंदबाजी करते हुए 63 रन खर्च कर सर्वाधिक पांच सफलता प्राप्त की. वहीं दूसरी पारी में भी उन्होंने 44.4 ओवर की गेंदबाजी करते हुए 128 रन खर्च कर तीन विकेट चटकाए. उनके आखिरी शिकार प्रज्ञान ओझा रहे. इस विकेट के साथ ही उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 800 विकेट लेने का भी कारनामा किया.

बता दें टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक विकेट चटकाने का रिकॉर्ड मुथैया मुरलीधरन के नाम ही दर्ज है. उन्होंने अपनी टीम के लिए 1992 से 2010 के बीच 133 मैच खेलते हुए 230 पारियों में 22.7 औसत की से 800 विकेट चटकाए हैं. टेस्ट क्रिकेट में उनके नाम 45 बार चार और 67 बार पांच विकेट लेने का कारनामा है. टेस्ट क्रिकेट में उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन 51 रन खर्च कर नौ विकेट है.

टेस्ट क्रिकेट के अलावा उन्होंने अपने देश के लिए 350 वनडे मुकाबले भी खेले हैं. इस दौरान उन्होंने 341 पारियों में 23.1 की औसत से 534 सफलता प्राप्त की है. वनडे में उनके नाम 15 बार चार और 10 बार पांच विकेट लेने का कारनामा है. वनडे में उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन 30 रन खर्च कर सात विकेट है.

क्रिकेट के इन दोनों प्रारूपों के अलावा उन्होंने अपनी टीम के लिए 12 टी20 इंटरनेशनल मुकाबले भी खेले हैं. टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट की 12 पारियों में उनके नाम 22.8 की औसत से 13 सफलता दर्ज है.

%d bloggers like this: