news21cg

 प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 

              यह योजना हर किसान के लिए बहुत उपयोगी है। इसमें किसी आपदा के कारण होने वाले फसलों के नुकसान/बरबाद होने को कवर किया जाता है। नुकसान की स्थिति में पीड़ि‍त किसानों को वित्तीय सहायता मिलती है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की शुरुआत फरवरी, 2016 में की गई थी। कृषि मंत्रालय के अनुसार योजना के तहत अब तक 36 करोड़ से अधिक किसान आवेदकों का बीमा किया गया है और इस साल 4 फरवरी तक 1,07,059 करोड़ रुपये से अधिक दावों का भुगतान किया गया हैं |

नुकसान के लिए 72 घंटे में करनी होती है रिपोर्ट

        वर्ष 2020 में बीमा योजना में कुछ सुधार किए गए थे, जिसके तहत अगर प्राकृतिक आपदा से फसल को नुकसान पहुंचता है तो किसान को 72 घंटे में इसकी रिपोर्ट फसल बीमा एप, सीएससी या निकटतम कृषि अधिकारी के माध्यम से देनी होती है। इसके बाद ही, बीमा दावा की प्रक्रिया शुरू होती है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 

         खरीफ फसल के लिए किसान द्वारा देय अधिकतम बीमा प्रभार (बीमित राशि का प्रतिशत) 2 फीसदी है।

रबी फसल के लिए किसान द्वारा देय अधिकतम बीमा प्रभार (बीमित राशि का प्रतिशत) 1.5 फीसदी है।

वार्षिक वाणिज्यिक एंव बागवानी फसलों के लिए किसान द्वारा देय अधिकतम बीमा प्रभार (बीमित राशि का प्रतिशत) 5 फीसदी है।

%d bloggers like this: